पाठ संस्करण red blue grey
hindi

विनियम

राआबैंक(नदि)/डीआरएस/नीति सं.28/2009

15 अप्रैल, 2009

सभी पंजीकृत आवास वित्त कंपनियों को

महोदय,

 

बैंकिंग कंपनी (नामांकन) विनियम, 1985 - नामांकन की पावती

 

जैसाकि आपको ज्ञात होगा कि जमाकर्ता/जमाकर्ताओं द्वारा आवास वित्त कंपनी में अपनी जमा कं संबंध में राष्ट्रीय आवास बैंक अधिनियम, 1987 की धारा 36बी के तहत किसी एक व्यक्ति के पक्ष में टनामांकनट किया जा सकता है । यह नामांकन केन्द्र सरकार द्वारा बैंकिंग विनियमावली अधिनियम, 1949 की धारा 45जेडए के तहत पारित बैंकिंग कंपनी (नामांकन) विनियम, 1985 में उल्लिखित विधि से किया जा सकता है । कथित विनियमों के नियम 2(9) के अनुसार, कंपनियों द्वारा जमाकर्ता(ओं) को नामांकन करने, नामांकन निरस्त और/या परिवर्तन की यथाविधि भरे फार्म की लिखित पावती भेजना अपेक्षित होता है ।

2. आवास वित्त कंपनियों को जो सार्वजनिक जमा स्वीकार करती हैं, सूचित किया जाता है कि वे बैंकिंग कंपनी (नामांकन) विनियम, 1985 के उपर्युक्त प्रावधान का सख्ती से अनुपालन करें और नामांकन करने, नामांकन निरस्त और/या परिवर्तन के लिए यथाविधि भरे गए नामांकन फार्म की पावती भेजने की कोई उपयुक्त प्रणाली तैयार करें । इस प्रकार की पावती सभी ग्राहकों को दी जाए चाहे ग्राहकों द्वारा उसकी मांग की गई हो या नहीं ।

3. आवास वित्त कंपनियों को यह भी सूचित किया जाता है कि आवर्ती जमा पासबुक/सावधि जमा रसीद के ऊपर ही टनामांकन पंजीकृत कियाट लिखकर नामांकन करने के बारे में प्रविष्टि करें और वे आवर्ती जमा पासबुक/सावधि जमा रसीद में नामिती का नाम भी लिखें, यदि ग्राहक इसके लिए सहमत हो ।

 

भवदीय,

(आर.एस. गर्ग)

महाप्रबंधक

विनियमन एवं पर्यवेक्षण विभाग
 
कॉपीराइट © 2012 राष्ट्रीय आवास बैंक