पाठ संस्करण red blue grey
hindi

 

वित्तपोषण

सूचना -  विवरणिका

आवास वित्त कम्पनियों को  आवास हेतु उनके दिए जाने वाले ऋण् के लिए पुनर्वित्त सहायता

1. प्रस्तावना :

इस योजना का उदेशय आवासीय इकाई खरीदने उसके निर्माण/मरम्मत और उन्नयन के लिए व्यक्तियों को 1 करोद़ृ रुपए तक का आवास वित्त कम्पनियों द्वारा प्रत्यक्ष उधार देने के लिए उनको वित्तीय सठ्ठायता प्रदान करना है। आवास वित्त कम्पनियां यठ्ठ सठ्ठायता उनकी ओर से दिए गए अग्रिमों के लिए और इसी प्रकार अपने भावी संवितरण के प्रति भी प्राप्त कर सकती है । यठ्ठ नोट किया जाए कि इस विवरणिका में उल्लिखित नियम एवं नीतियां इस योजना के अधीन जारी किए गए पुनर्वित्त के लिए लागू ठ्ठोती है और आवास वित्त कम्पनियों द्वारा किसी पुरानी पुनर्वित्त योद्दाना के अधीन पठ्ठले लिए गए पुनर्वित्त पर नहीं जो संह्नांधित नियमों से संबधित ठ्ठोती है।

2. ग्राह्यता मानदंदृ :

निम्नलिखित मानदंदृ पूरा करने वाली आवास वित्त कम्पनियां राष्ट्रीय आवास बैंक से पुनर्वित्त पाने के लिए ग्राह्य ठ्ठोंगी :-

2.1 वठ्ठ आवास वित्त कम्पनी देश में आवास वित्त की गतिविधियां ह्वालाने के लिए राष्ट्रीय आवास बैंक में पंजीकृत होनी चाहिए ।

2.2 उस आवास वित्त कम्पनी को मकानार्थियों द्वारा आवासीय इकाईयों के निर्माण/खरीद/मरम्मत/उन्नयन के लिए दीर्घावधि वित्त उपलह्नध कराना चाहिए ।

2.3 उस आवास वित्त कम्पनी को आवास ठ्ठेतु दीर्घावधि वित्त के ज़रिए नियोद्दात पूंजी का कम से कम 75% निवेश करना चाहिए ।

स्पष्टीकरण : उपर्युक्त के लिए नियोद्दात पूंजी का अर्थ और उसमें निम्नलिखित होगा :-

i. कम्पनी की ह्वाजकता पूंजी और अमूर्त को घटा कर उसकी निर्बाध आरक्षित निधियां :-

ii दीर्घावधि उधार की राशियां

iii. राष्ट्रीय आवास बैंक अधिनियम, 1987 की धारा 29बी में यथा अनुह्नाद्ध विनिर्दिष्ट आस्तियां ह्नानाए रखी जाने अथवा रखी जाने के लिए अपेक्षित राशि को छोद़ृकर, द्दानता एवं अन्यों से संग्रठ्ठीत पांह्वा वर्षों और उससे ऊपर की परिपक्वता अवधि सठ्ठित जमा राशि ।

2.4 उस आवास वित्त कम्पनी के पास 10 करोद़ृ रुपए से अधिक निवल स्वाधिकृत निधि होनी चाहिए । निवल स्वाधिकृत निधि का वठ्ठाँाँाú अर्थ होगा, द्दााट 2001 के आवास वित्त कम्पनी (रा.आ.बैंक) के निर्देशों के अनुसार है ।
 

2.5 उस आवास वित्त कम्पनी को राष्ट्रीय आवास बैंक अधिनियम, 1987 एवं समय-समय पर यथा संशोधित 2001  के आवास वित्त कम्पनी (रा.आ.बैंक) के निर्देशों का अनुपालन करना चाहिए ।

2.6 उस आवास वित्त कम्पनी की निवल अनुपयोद्दय आस्तियां निवल अग्रिमों के 5% से अधिक नही होनी चाहिए। अनुपयोद्दय आस्तियों का वठ्ठी अर्थ होगा द्दौसा कि 2001 के आवास वित्त कम्पनी (रा.आ.बैंक) के निर्देशों में परिभाषित किया गया है । निवल अनुपयोद्दय आस्ति का अर्थ ठ्ठोता है - ठप्रावधान कम करके अनुपयोद्दय आस्तिड । निवल अग्रिमों का अर्थ ठप्रावधान कम करके अग्रिमड होगा । अग्रिमों में, आवास ऋणों से अलग, ह्नांधक ऋण, प ा संह्नांधी लेनदेन, क्रय किराया आस्ति विनिमय ह्नाल, अन्तर कम्पनी निक्षेप तथा उद्धृत नठ्ठीं किए गए ऋण-पत्र शामिल होंगें ।

2.7 उस आवास वित्त कम्पनी को राष्ट्रीय आवास बैंक से वित्तीय सठ्ठायतार्थ ग्राह्य ठ्ठोने के लिए न्यूनतम निर्धारित ऋण-पात्रता निर्धारण प्राप्त करना पद़ेगा । राष्ट्रीय आवास बैंक ने आवास वित्त कम्पनियों की वित्तीय सठ्ठायता के लिए ग्राह्यता अवधारित करने के उ टश्य से एक आन्तरिक ऋणपात्रता निर्धारण मॉदृल विकसित किया है ।

3.ब्याज की दर :

3.1 इस योद्दाना के अधीन वित्तीय सठ्ठायता या तो स्थायी अथवा ह्वालायमानब्याज की दरों पर प्रदान की द्दााएगी । आवास वित्त कम्पनियां अपनी ज़रूरतों के आधार पर ह्वालायमान अथवा स्थायीब्याज की दरें पसंद कर सकती है। आवास वित्त कम्पनी से प्रभारित की द्दााने वालीब्याज की दर वठ्ठी ठ्ठोगी द्दााट संवितरण की तारीख को प्रह्वालित हैऔर यठ्ठ राष्ट्रीय आवास बैंक द्वारा उसे प्रदत्त ऋण-पात्रता निर्धारण, ऋणों के स्तर (स्लैह्ना) तथा पुनर्वित्त के अधीन अपेक्षित पुनर्भुगतान की अवधि पर निर्भर करेगी ।

ब्याज की दर राष्ट्रीय आवास बैंक द्वारा आवधिक पुनरीक्षण के अध्यधीन ठ्ठोगी और इसे समय-समय पर आवास वित्त कम्पनी को सूह्वात किया जाएगा।

3.2 स्थायी ब्याज दर ऋणों को अस्थिरब्याज दर के ऋणों में और उनका विलोमत: संपरिवर्तन

यदि कोई आवास वित्त कम्पनी ह्नाकाया ऋणों को स्थायीब्याज दर ड्ढांह्वो से अस्थिरब्याज दर ड्ढांह्वो में अथवा विलोमत: संपरिवर्तित करना ह्वााठ्ठती है, तो ऐसी किसी स्थिति में निम्नलिखित नियम लागू होंगें :-

 
  • स्थायीब्याज दर से अस्थिरब्याज दर में संपरिवर्तन पर ह्नाकाया ऋण के 0.50% का एक उद्ग्रठ्ठण लगेगा । लागूब्याज की दर उस समय उस ऋण की अवशिष्ट पुनर्भुगतान की अवधि के समतुल्य अवधि के लिए, यथा लागू प्रह्वालितब्याज की दर ठ्ठोगी ।
  • ऋणों को अस्थिर से स्थायीब्याज की दर में संपरिवर्तित करने की इह्वछुक आवास वित्त कम्पनियों को उतना उद्ग्रठ्ठण देना होगा द्दातना कि अस्थिर दर पुनर्वित्त के पूर्वभुगतान के संह्नांध में निर्धारित किया गया है । लागूब्याज की दर, उस ऋण की अवशिष्ट पुनर्भुगतान की अवधि के समतुल्य अवधि के लिए उस समय प्रह्वालित स्थायीब्याज की दर ठ्ठोगी ।
  • संपरिवर्तन प्रत्येक वर्ष केवल 1 द्दाजलाई और 1 द्दानवरी को किया जाएगा। ऐसे संपरिवर्तन के लिए अनुरोध प्रभावी  संपरिवर्तन  की देय तारीख से 1 मठ्ठीना पूर्व राष्ट्रीय आवास बैंक के पास पठ्ठुंह्वा द्दााना चाहिए ।

3.3 स्थायी दर ऋणों परब्याज की दर में संशोधन :

ब्याज की स्थायी दरों पर दिए गए पुनर्वित्त के मामले में, राष्ट्रीय आवास बैंक के पास यठ्ठ विकल्प होगा कि वठ्ठ 3 वर्ष पूरे ठ्ठो द्दााने पर ह्नाकाया ऋणों पर दरों में संशोधन कर सके । संशोधित दर उस तिमाठ्ठी, द्दासमें 3 वर्ष पूरे ठ्ठो द्दााते हैं, के तत्काल ह्नााद की तिमाठ्ठी से प्रभावी ठ्ठो द्दााएगी । लागूब्याज दर, उस ऋण की मूल पुनर्भुगतान की अवधि के समतुल्य अवधि के लिए उस समय प्रह्वालितब्याज की स्थायी दर ठ्ठोगी । उर्ध्वगामी संशोधन के मामले में, आवास वित्त कम्पनी के पास यठ्ठ विकल्प होगा कि वठ्ठ या तो ह्नाकाया शेष को संशोधित दरों पर द्दाारी रखे अथवा पुर्वभुगतान के उद्ग्रठ्ठण के ह्नाना उसका पूर्वभुगतान कर दे । तथापि, अधोगामी संशोधन की स्थिति में, यदि आवास वित्त कम्पनी ऐसा ह्वााठ्ठती है, तो उन्ठ्ठें केवल लागू पूर्वभुगतान उद्ग्रठ्ठण के भुगतान पर राशि के पूर्वभुगतान की अनुमति दी द्दाा सकेगी ।

4. पुनर्वित्त की अवधि :

पुनर्वित्त का  भुगतान  2 वर्ष से अनधिक अवधि  और 15 वर्षों से अधिक के भीतर किया जाएगा। आवास वित्त कम्पनियों के पास अपनी आवश्यकता के अनुसार पुनर्भुगतान की अवधि ह्वाजनने का विकल्प होगा । मूलधन का पुनर्भुगतान औरब्याज का भुगतान त्रैमासिक आधार पर होगा । मूलधन का पुनर्भुगतान उसके द्दाारी किए द्दााने की तारीख से एक स्पष्ट कैलेंदृर तिमाठ्ठी के ह्नााद प्रारम्भ होगा द्दाह्नाकिब्याज का भुगतान आसन्न तिमाठ्ठी से

प्रारम्भ ठ्ठो जाएगा।ब्याज और मूलधन के भुगतान की देय तारीखों की सूह्वाना आवास वित्त कम्पनी को पुनर्वित्त के प्रत्येक ह्नाार द्दाारी किए द्दााने के ह्नााद पुनर्भुगतान की अनुसूह्वााú में दे दी द्दााएगी ।

 

5. पुर्वभुगतान :

राष्ट्रीय आवास बैंक से पुनर्वित्त का लाभ उख्रने के ह्नााद, आवास वित्त कम्पनी सम्पूर्ण राशि का अथवा उसके किसी अंश का पुनर्भुगतान देय तारीख से पठ्ठले करने के अपने आशय का राष्ट्रीय आवास बैंक को दो मठ्ठीने का नोटिस देकर देय तारीख से कर सकती है । राष्ट्रीय आवास बैंक, यथा निम्नलिखित, एक पूर्वभुगतान उद्ग्रठ्ठण ऐसे पूर्वभुगतानों पर लगाएगा ।

पूर्वभुगतान उद्ग्रठ्ठण

अवशिष्ट परिपक्वता

स्थायीब्याज दर

अस्थिरब्याज दर

5 वर्षों से कम

राशि के 0.5% पूर्वभुगतान किया जाएगा

राशि के 0.5% का पूर्वभुगतान किया जाएगा

5 वर्ष और अधिक

राशि के 1% का पूर्वभुगतान किया जाएगा

राशि के 0.5% का पूर्वभुगतान किया जाएगा

आवास वित्त कम्पनियों की ओर से राष्ट्रीय आवास बैंक को संदेय पूर्वभुगतान उद्ग्रठ्ठण इस तथ्य से अलग होगा कि क्या पूर्वभुगतान उद्ग्रठ्ठण आवास वित्त कम्पनियों द्वारा अपने उधारकर्ताओं से लिया द्दाा रठ्ठा है । आवास वित्त कम्पनियों के लिए यठ्ठ आवश्यक होगा कि वे उस पुनर्वित्त लेखा के ह्नाारे में पूर्ण विवरण दें द्दासके लिए पूर्वभुगतान किया द्दाा रठ्ठा है । ऐसे विवरण के अभाव में, पूर्व संदत्त राशि पठ्ठले द्दाारी किए गए पुनर्वित्त और ठपठ्ठले आए, पठ्ठले गएड आधार पर ह्नाकाया में द्दामा कर दी द्दााएगी । द्दाारी किये द्दााने के समय मूल रूप से निश्ह्वात की गई किस्त की राशि ह्नादली नठ्ठीं द्दााएगी । परिणामस्वरूप, अन्तिम किस्त घट द्दााएगी और द्दाह्ना कभी आवश्यक ठ्ठोगी पुनर्भुगतान की अवधि कम ठ्ठो द्दााएगी ।

प्रतिभूति :

6.1 वैयक्तिक ठ्ठिताधिकारियों से प्राप्त की द्दााने वाली प्रतिभूति :

आवास वित्त कम्पनी को सामान्यत: अपनी ओर से दिए गए ऋण के लिए यथा प्रतिभूति सम्पत्ति को ह्नांधक रखनी चाहिए । द्दाठ्ठां यठ्ठ संभव  न ठ्ठो, वठ्ठां,  आवास  वित्त  कम्पनी  अपने  विवेकानुसार द्दााúवन ह्नााúमा, वह्वान-पत्रों, शेयरों और ऋण-पत्रों, के रूप में यथोह्वात मूल्य की अथवा ऐसी अन्य प्रतिभूति, द्दााट उसे ऋण को पूर्ण रूप से प्रतिभूत करने के लिए समुह्वात लगे, ऐसी प्रतिभूति उसके पक्ष में उह्वात रूप से निर्मित प्रभार सठ्ठित स्वीकार करले ।

आवास वित्त कम्पनी और उसके उधारकर्ताओं के ह्नााúह्वा ठ्ठोने वाले ऋण करार में इस दिशा में एक उपह्नांध होगा कि आवास वित्त कम्पनी के राष्ट्रीय आवास बैंक के पक्ष में उस प्रतिभूति में प्रभार निर्मित करने, ह्नांधक अथवा अन्य ठ्ठित रखने पर कोई आपत्ति नठ्ठीं ठ्ठोगी ।

प्रारम्भिक ऋण का द्दामा द्दााटखिम पूर्णत: आवास वित्त कम्पनी की ओर से लिया जाएगाऔर राष्ट्रीय आवास बैंक से मांगा गया पुनर्वित्त प्रारम्भिक ऋण लेखा नियमित अथवा अन्यथा ह्नाने रठ्ठने का ध्यान ह्नाना पुनर्भुगतान योग्य है ।
 

6.2 पुनर्वित्त के लिए प्रतिभूति : राष्ट्रीय आवास बैंक से पुनर्वित्त को सामान्य रूप से आवास वित्त कम्पनी के ह्नाठ्ठी-ऋणों पर प्रभार से प्रतिभूत किया द्दााता है । अतिरिक्त प्रतिभूति, द्दौसे कि अह्वाल सम्पत्तियों/ह्वाल सम्पत्तियों पर प्रभार, प्रवर्तक की गारंटी इत्यादि, राष्ट्रीय आवास बैंक के विवेक पर निर्धारित की द्दाा सकती है । प्रतिभूति मामला-दर-मामला के आधार पर अवधारित की द्दााए । ग्राह्य ऋणदाता संस्थान राष्ट्रीय आवास बैंक को ऐसे प्रपत्र (फॉर्म) में ऐसे दस्तावेज़/वह्वान-पत्र इत्यादि प्रस्तुत करेंगे/के पक्ष में निष्पादित करेंगे, द्दासकी  विषयवस्तु  समय-समय पर राष्ट्रीय आवास बैंक द्वारा विठ्ठित की द्दााएगी ।

यदि किसी समय राष्ट्रीय आवास बैंक की राय है कि आवास वित्त कम्पनी की ओर से प्रदत्त प्रतिभूति ह्नाकाया पुनर्वित्त के लिए अपर्याप्त ठ्ठो द्दााती है, तह्ना उस आवास वित्त कम्पनी को कठ्ठा द्दाा सकता है कि वठ्ठ राष्ट्रीय आवास बैंक की संतुष्टि के अनुसार, ऐसी प्रतिभूति प्रदान करे द्दााट इस प्रकार की कमी पूरी करने के लिए राष्ट्रीय आवास बैंक को स्वीकार्य ठ्ठो ।

7. कार्यविधि :

7.1 पुनर्वित्त सीमा के लिए आवेदन :

राष्ट्रीय आवास बैंक के पुनर्वित्त संह्नांधी परिह्वाालन नई दिल्ली में केन्द्रीयकृत किए द्दााते हैं । एक वर्ष विशेष में पुनर्वित्त उस वर्ष (द्दाजलाई से द्दाझन) के लिए आवास वित्त कम्पनी को संस्वीकृत सीमा के आधार पर द्दाारी किया द्दााता है  । पुनर्वित्त का लाभ उख्रने की इह्वछुक कोई भी आवास वित्त कम्पनी अप्रैल-मार्ह्वा अर्थात् आगामी वर्ष के लिए आवास ऋणों का संभावित संवितरण ह्नाताते ठ्ठुए, समय-समय पर राष्ट्रीय आवास बैंक द्वारा यथा अपेक्षित किसी अन्य द्दाानकारी सठ्ठित, विठ्ठित ऋण पुनरीक्षण फार्मेट-एनएह्वाह्नााú-आर.ओ.दी/(एह्वाएफसी)-01 में पुनर्वित्त सीमा की संस्वीकृति के लिए अपनी वार्षिक संभावनाएं राष्ट्रीय आवास बैंक को प्रस्तुत करेगी । वार्षिक ऋण पुनरीक्षण प्ररूप (फार्मेट) विधिवत् रूप से पूर्ण करके प्रत्येक वर्ष फरवरी के मठ्ठीने में अथवा इससे पूर्व, अर्थात् वर्ष 2003-04 के लिए भरा ठ्ठुआ फार्मेट 28 फरवरी, 2003 को अथवा इससे पूर्व राष्ट्रीय आवास बैंक के पास पठ्ठुंह्वा द्दााना चाहिए । राष्ट्रीय आवास बैंक व्यापारिक संभावनाओं तथा ऋण एक्सपोज़र से सुसंगत अन्य मु ाटं के आधार पर पुनर्वित्त सीमा नियत करेगा ।

प्रथम ह्नाार पुनर्वित्त के लिए आवेदन करने वाली आवास वित्त कम्पनी, उपर्युक्त से अलग निम्नलिखित द्दाानकारी प्रस्तुत करेगी :-

क. प्रवर्तकों की पूर्वतम दो वर्षों की वार्षिक रिपोर्ट सठ्ठित उन पर एक संक्षिप्त आलेख ।

ख.पूर्वतम तीन वर्षों के लिए, आवास वित्त कम्पनी की वार्षिक रिपोर्ट द्दासमें उसका तुलन-पत्र तथा लाभ एवं ठ्ठानि लेखा अन्तर्विष्ट ठ्ठो ।

ग. पूर्वतम तीन वर्षों के दौरान आवास ऋण और संस्वीकृत एवं संवितरित ।

7.2 विधिक प्रलेखन :

राष्ट्रीय आवास बैंक से संस्वीकृति पत्र प्राप्त करने पर आवास वित्त कम्पनी एक संकल्प राष्ट्रीय आवास बैंक को प्रस्तुत करेगी । संकल्प फॉर्म एनएह्वाह्नााú-आरओदी(एह्वाएफसी)-02 में उसके नई दिल्ली कार्यालय में प्रस्तुत किया जाएगा। इस उ टश्य से प्राधिकृत किसी अधिकारी को आवास वित्त कम्पनी की ओर से पुनर्वित्त के आवेदन पर ठ्ठस्ताक्षर करने चाहिए । उस आवास वित्त कम्पनी के लिए करार पर ठ्ठस्ताक्षर करना तथा राष्ट्रीय आवास बैंक के कार्यालय में, इस उ टश्य के लिए यथा अपेक्षित ऐसे प्रलेख निष्पादित करने आवश्यक होंगें ।

 

7.3 पुनर्वित्त का आवेदन प्रस्तुत करना :

पुनर्वित्त का लाभ उख्रने की इह्वछुक आवास वित्त कम्पनी प्रपत्र एनएह्वाह्नााú-आरओदी(एह्वाएफसी)-02 में एक आवेदन राष्ट्रीय आवास बैंक के नई दिल्ली कार्यालय में प्रस्तुत करेगी । इस प्रयोद्दानार्थ प्राधिकृत अधिकारी को आवास वित्त कम्पनी द्वारा प्रस्तुत किए गए पुनर्वित्त के आवेदन पर ठ्ठस्ताक्षर करने चाहिए । इस ह्नाारे में, आवास वित्त कम्पनियों को राष्ट्रीय आवास बैंक के अभिलेखार्थ निदेशक मंदृल/मुख्य कार्यपालक की ओर से फॉर्मों/विवरणों/पत्रों पर ठ्ठस्ताक्षर करने के लिए प्राधिकृत अधिकारियों के नमूना ठ्ठस्ताक्षरों सठ्ठित उनकी एक सूह्वााú प्रत्येक वर्ष द्दाजलाई से द्दाझन की अवधि में प्रस्तुत करना आवश्यक है । यदि उस वर्ष में प्राधिकृत ठ्ठस्ताक्षरियों की सूह्वााú में कोई परिवर्तन ठ्ठोता है, तह्ना उसे भी राष्ट्रीय आवास बैंक को सूह्वात किया द्दााए । एक मठ्ठीने के दौरान द्दाारी पुनर्वित्त की राशि सामान्यतया पुनर्वित्त सीमा के 20% की अधिकतम उह्वह्वा सीमा तक प्रतिह्नांधित रठ्ठेगी । आवास वित्त कम्पनी के लिए यठ्ठ आवश्यक होगा कि वठ्ठ आवेदन में पुनर्वित्त के पुनर्भुगतान की अवधि/ह्नयाद्दा की स्थायी/अस्थिर दर का विकल्प उपदर्शित करे । पुनर्भुगतान की विभिन्न अवधियों औरब्याज की स्थायी/अस्थिर दर विकल्प वाली ऋण की राशि के लिए पृथक आवेदन प्रस्तुत करना आवश्यक होगा । दूसरे शह्नदों में, प्रत्येक आवेदन केवल पुनर्भुगतान अवधि का एक विकल्प तथाब्याज की स्थायी/अस्थिर दर का एक विकल्प उपदर्शित करेगा । इसी प्रकार से, 10 लाख रुपए के ऋण और 10 लाख रुपए से अधिक के ऋण के लिए वैयक्तिक ऋणों के संह्नांध में पृथक आवेदन प्रस्तुत किए द्दााने आवश्यक होंगें ।

7.4 द्दाारी करने का तरीका :

द्दाारी किया गया पुनर्वित्त उस  आवास वित्त कम्पनी के किसी बैंक की मुम्ह्नाई शाखा में ह्वाल रठ्ठे ह्वाालू खाता के ज़रिए भेद्दाा जाएगा। अथवा वठ्ठ आवास वित्त कम्पनी केनरा बैंक, मुम्ह्नाई की तामरिडदृ लेन शाखा में नया खाता खोले और बैंक को यठ्ठ अनुदेश दे दे कि वे राष्ट्रीय आवास बैंक से प्राप्त अथवा उसको दी द्दााने वाली निधियां प्राप्त कर लें । मुम्ह्नाई में खाता नठ्ठीं रखने वाली आवास वित्त कम्पनी उनकी शाखाओं के ज़रिए अथवा अपने बैंकरों के ज़रिए मुम्ह्नाई में ह्वौक प्राप्त करने और ह्वौक की राशि को उनके खाते में अन्तरित करने की उपयुक्त व्यवस्था करें । द्दाारी करने का तरीका पुनर्वित्त  के  आवेदन एनएह्वाह्नााú-आरओदी(एह्वाएफसी)-02 में राष्ट्रीय आवास बैंक को ह्नाताना होगा ।

 

7.5 पुनर्भुगतान का तरीका :

क. मूलधन के सभी भुगतान औरब्याज/अतिरिक्तब्याज का भुगतान राष्ट्रीय आवास बैंक के  45, वीर नरीमन रोदृ, फोर्ट, मुम्ह्नाई-400 023 पर स्थित कार्यालय के तीसरे तल पर किए द्दााने चाहिए ।

ख. मूलधन का पुनर्भुगतान आवास वित्त कम्पनी की ओर से राष्ट्रीय आवास बैंक को निम्न प्रकार से किया जाएगा:-

i) प्राप्त की गई पुनर्वित्त राशि का राष्ट्रीय आवास बैंक को भुगतान, यथा स्थिति, 60 समान त्रैमासिक अथवा राष्ट्रीय आवास बैंक की ओर से विनिर्दिष्ट कम किस्तों में 15 वर्ष से अनधिक की अवधि में किया जाएगा।

ii) पुनर्भुगतान की देय तारीख प्रत्येक कैलेंदृर तिमाठ्ठी का प्रथम दिन (अर्थात् प्रति वर्ष 1 द्दानवरी, 1 द्दाजलाई, 1 अक्तूह्नार) ठ्ठोगी ।

iii)  मूलधन का भुगतान पुनर्वित्त के संवितरण के ठ्ठोने से स्पष्ट कैलेंदृर तिमाठ्ठी के अंतराल के ह्नााद प्रारम्भ होगा । उदाठ्ठरणार्थ, यदि पुनर्वित्त का संवितरण 4 अक्तूह्नार, 2002 को ठ्ठोता है, तह्ना मूलधन की प्रथम किस्त पुनर्भुगतान के लिए 1 अप्रैल, 2003 को देय ठ्ठो द्दााएगी । अर्थात् द्दानवरी-मार्ह्वा, 2003 की एक स्पष्ट कैलेन्दृर तिमाठ्ठी के अन्तराल के ह्नााद ।

ग. आवास वित्त कम्पनी  की  ओर  से राष्ट्रीय आवास बैंक कोब्याज का भुगतान निम्न प्रकार  से होगा :-

i)  पुनर्वित्त पर राष्ट्रीय आवास बैंक को दिया द्दााने वाला दैनिक उत्पाद आधार पर परिकलित किया जाएगाऔर त्रैमासिक अन्तरालों पर प्रभारित होगा ।

ii)ब्याज के परिकलन के लिए एक वर्ष में 365 दिन लिए द्दााएंगे ह्वााठ्ठे वठ्ठ वर्ष लीप वर्ष है अथवा एक सामान्य वर्ष है ।

iii)ब्याज  का  भुगतान पुनर्वित्त के संवितरण की अनुवर्ती तारीख के तत्काल ह्नााद कैलेन्दृर तिमाठ्ठी के प्रथम दिन से प्रारम्भ होगा । उदाठ्ठरणार्थ, यदि पुनर्वित्त 4 अक्तूह्नार, 2002 को संवितरित ठ्ठोता है, तह्ना उस पुनर्वित्त परब्याज पठ्ठली ह्नाार 1 द्दानवरी, 2003 को भुगतान के लिए देय ठ्ठो जाएगा।

iv)  पुनर्वित्त परब्याज ह्वौक/प्राधिकार की तारीख से राष्ट्रीय आवास बैंक के पक्ष में प्रोद्भूत होना प्रारम्भ ठ्ठो जाएगा।

घ.  यदि मूलधन के पुनर्भुगतान/ह्नयाद्दा भुगतान के लिए देय तारीख राष्ट्रीय आवास बैंक के मुम्ह्नाई कार्यालय के लिए अवकाश का दिन है, और देय राशि के संह्नांध में क्रेदृट राष्ट्रीय आवास बैंक द्वारा उस तिमाठ्ठी, द्दासमें भुगतान देय है, के प्रथम तीन कार्य दिवसों के भीतर प्राप्त किया द्दााता है, तह्ना अतिरिक्तब्याज प्रभारित नठ्ठीं  किया जाएगा। तथापि, आवास वित्त कंपनी देय राशि परब्याज मुम्ह्नाई कार्यालय को भुगतान के दिन तक अतिरिक्त दिनों के लिए, लागू दरों परब्याज का भुगतान करेगी । इस ह्नाारे में, कृपया यठ्ठ नोट किया द्दााए कि राष्ट्रीय आवास बैंक के मुम्ह्नाई कार्यालय में वठ्ठी अवकाश ठ्ठोते हैं द्दााट परक्राम्य अधिनियम, 1949 के अनुसार मठ्ठाराष्ट्र राद्दय के लिए घोषित किए द्दााते हैं । इसके अतिरिक्त, यठ्ठ भी नोट किया द्दााए कि राष्ट्रीय आवास बैंक में पांह्वा दिन का सप्ताठ्ठ ठ्ठोता है और यठ्ठ कि उसके कार्यालय शनिवार एवं रविवार को ह्नांद रठ्ठते हैं । यदि किस्त का पुन: भुगतान औरब्याज का भुगतान देय तारीख से पठ्ठले किया द्दााता है, तभी क्रेदृट केवल देय तारीख को दिया जाएगा।

ङ   राष्ट्रीय आवास बैंक के मुम्ह्नाई कार्यालय के लिए प्रथम तीन कार्य दिवसों से परे किसी विलम्ह्ना के लिए आवास वित्त कम्पनी विलम्ह्ना की कुल अवधि के लिए व्यतिक्रमित राशि पर अतिरिक्तब्याज का भुगतान लागू दर से अधिक दो प्रतिशत वार्षिक की दर से करेगी ।

ह्वा.  आवास वित्त कम्पनी, इस ह्नाात पर ध्यान दिए ह्नाग़ैर कि उसे उधारकर्ताओं से राशि वास्तव में प्राप्त ठ्ठो गई है, अथवा, नठ्ठीं, वठ्ठ राष्ट्रीय आवास बैंक को देय तारीखों पर तत्परता से भुगतान करेगी ।

 

8. राष्ट्रीय आवास बैंक को आवधिक विवरणियां :

राष्ट्रीय आवास बैंक से पुनर्वित्त का लाभ उख्रने वाली आवास वित्त कम्पनी के लिए विभिन्न विवरण/द्दाानकारी आवधिक आधार पर राष्ट्रीय आवास बैंक को प्रस्तुत करनी आवश्यक है । ऐसे सभी विवरणों की सूह्वााú अनुलग्नक-I पर है । आवास वित्त कम्पनी को इन विवरणियों को प्रस्तुत करने में तत्पर एवं नियमित होना चाहिए ।

9. अन्य नियम एवं शर्तें :

9.1 प्रतिकूल शेष :राष्ट्रीय आवास बैंक से पुनर्वित्त का लाभ उख्र रठ्ठी आवास वित्त कम्पनियां प्रत्येक वर्ष यथा 30 सितम्ह्नार और 31 मार्ह्वा को अपने सांविधिक लेखा परीक्षकों से विधिवत् प्रतिठ्ठस्ताक्षरित एक प्रमाण प्रस्तुत करेंगी द्दासमें यठ्ठ पुष्टि की द्दााएगी कि राष्ट्रीय आवास बैंक से ह्नाकाया पुनर्वित्त उन कुल ह्नाकाया आवास ऋणों, द्दानके संह्नांध में पुनर्वित्त प्राप्त किया गया है, से अधिक नठ्ठीं ठ्ठो द्दााता है । आवास वित्त कम्पनियों की ओर से राष्ट्रीय आवास बैंक को देय ह्नाकाया पुनर्वित्त उन सभी ह्नाकाया आवास ऋणों, द्दानके लिए आवास वित्त कम्पनी द्वारा पुनर्वित्त का लाभ उख्रया गया है, का योग अर्थात् प्रतिकूल से अधिक ठ्ठोने की संभाव्यता में, आवास वित्त कम्पनी के लिए राष्ट्रीय आवास बैंक को प्रतिकूल शेष द्दातनी पुनर्वित्त राशि का पुनर्भुगतान करना आवश्यक होगा । यठ्ठ प्ररूप (फार्मेट) एनएह्वाह्नााú-आरओदी(एह्वाएफसी)-07 में, उपर्युक्त प्रमाण-पत्र पर आधारित होगा । प्रतिकूल शेष के मामले में, आवास वित्त के लिए उपर्युक्त प्रमाण-पत्र, राष्ट्रीय आवास बैंक को अग्रेषित किया द्दााने से पठ्ठले अपने निदेशक मंदृल के सामने प्रस्तुत करना आवश्यक होगा ।

उपर्युक्त प्रमाण-पत्र मिलने पर, राष्ट्रीय आवास बैंक पुनर्भुगतान की द्दााने वाली पुनर्वित्त राशि के ह्नाारे में आवास वित्त कम्पनी को सूह्वात करेगा । आवास वित्त कम्पनी को इस सूह्वाना से एक मठ्ठीने के भीतर राशि का भुगतान करना होगा । ऐसे भुगतान को राष्ट्रीय आवास बैंक के खाते में द्दामा ठ्ठोने की तारीख  से  द्दामा  माना जाएगा। आवास  वित्त  कम्पनियों  को प्रत्येक ह्नाार द्दाारी किए गए पुनर्वित्त की सूह्वााú (अर्थात् पुनर्वित्त के प्रत्येक आठ्ठरण से संह्नांधित लेखा) प्रस्तुत करनी ठ्ठोगी द्दासमें प्रतिकूल शेष, प्रत्येक पुनर्वित्त ऋण लेखा के संह्नांध में ह्नाकाया आवास ऋण के कुल योग सठ्ठित, निकला है । राष्ट्रीय आवास बैंक द्वारा पुनर्भुगतान किए गए धन को तदनुसार समायोद्दात किया जाएगा।

 

इस प्रसंग में, आवास वित्त कम्पनियां निम्नलिखित को ध्यान में रखेंगी :-

क.  स्थायीब्याज दर ड्ढांह्वो से परिवर्तनीयब्याज दर में ह्नादलने अथवा अन्य किन्ठ्ठीं कारणों की वद्दाठ्ठ से तथा उसी उधारकर्ता का एक नया खाता खोलने और एक प्राथमिक प्रतिभूति के रूप में वित्तपोषित उसी आवासीय इकाई के साथ पुरोह्नांद ऋण लेखा राष्ट्रीय आवास बैंक के पुनर्वित्त के लिए ह्वान्ठ्ठित आवास ऋणों में आता रठ्ठेगा और प्रतिकूल शेष की संगणना के लिए नठ्ठीं गिना जाएगा।

ख.  समर्थक प्रतिभूति/अतिरिक्त सीमान्त अपेक्षाओं के प्रयोद्दानार्थ ह्वान्ठ्ठित/शामिल ह्नाठ्ठी-ऋण उन सभी ह्नाकाया आवास ऋणों, द्दानके लिए यथा 30 सितम्ह्नार/31 मार्ह्वा को पुनर्वित्त का लाभ उख्रया गया है, के कुल योग की रकम की संगणना के नठ्ठीं गिने द्दााएंगे अर्थात् पुनर्वित्त में से निर्मित ह्नाठ्ठी-ऋणों की प्रतिभूति के अतिरिक्त अनुह्नाद्ध मार्द्दान प्रतिकूल शेष की संगणना के लिए नठ्ठीं गिना जाएगा। यठ्ठ अतिरिक्त मार्द्दान समर्थक प्रतिभूति के प्रयोद्दानार्थ होगा और इसे ह्नाकाया पुनर्वित्त पर ह्नानाए रखना होगा ।

ग.    उस ऋण खाते, द्दासके लिए राष्ट्रीय आवास बैंक से पुनर्वित्त लिया गया है, को आवास वित्त कम्पनी के रिकॉर्दृ से स्पष्ट रूप में पठ्ठह्वाान लिया द्दााना चाहिए और ऐसे सभी खातों की सूह्वााú आवास वित्त कम्पनी में होनी चाहिए और उनके रिकॉर्दृ में ह्नानी रठ्ठनी चाहिए ।

घ.  उधार देने और त्वरित पुनर्भुगतानों के सामान्य परिह्वाालन में पुरोह्नांद के कारण से उत्पन्न प्रतिकूल शेष के मामले में यठ्ठ प्रतिकूल शेष की संगणना के समय स्वत: शामिल ठ्ठो जाएगाऔर अपेक्षित कार्यविधि का पालन करने के ह्नााद एवं राष्ट्रीय आवास बैंक की सूह्वाना पर इसका पुनर्भुगतान कर दिया जाएगा। प्रतिकूल शेष के कारण ऐसे पुनर्भुगतान पर कोई उद्ग्रठ्ठण नठ्ठीं लगेगा ।

9.2 राष्ट्रीय आवास बैंक से भिन्न अन्य संस्थानों से उधार लेना : यदि कोई आवास वित्त कम्पनी राष्ट्रीय आवास बैंक से भिन्न किसी बैंक /वित्तीय संस्थान से निधियां उधार लेती हैं, तो वठ्ठ ऐसे उधार के लिए दी गई प्रतिभूति का विवरण देते ठ्ठुए इस ह्नाारे में राष्ट्रीय आवास बैंक को सूह्वात करेगी और राष्ट्रीय आवास बैंक से ठअनापत्ति प्रमाण-पत्रड लेगी । अनापत्ति प्रमाण-पत्र वर्ष में एक ह्नाार द्दाारी किया जाएगाद्दााट कि आवास वित्त कम्पनी द्वारा यठ्ठ ह्नाताते ठ्ठुए प्रस्तुत की गई भावी संभावनाओं के आधार पर होगा कि संभावित संवितरण और संसाधनों, द्दानसे निधियां द्दाजटाई द्दााएंगी, के विभिन्न मार्ग क्या हैं ? संभावनाएं प्ररूप (फॉर्मेट) एनएह्वाह्नााú-आरओदी(एह्वाएफसी)-03 में वार्षिक पुनर्वित्त सीमा के आवेदन के साथ प्रस्तुत करनी पद़ेगी ।  इस  सीमा से पर ट किसी उधार लेने  की कार्रवाई के लिए पृथक मंज़ूरी लेनी आवश्यक ठ्ठोगी । इस प्रसंग में निम्नलिखित नोट किया द्दााए :-

क.  आवास वित्त कम्पनी सुनिश्ह्वात करेगी कि सांख्यिकीय विवरणी/विवरण अथवा संपरीक्षित लेखा प्रमाण-पत्र राष्ट्रीय आवास बैंक के विनियमन एवं पर्यवेक्षण विभाग अथवा पुनर्वित्त परिह्वाालन विभाग में अथवा उसके किसी अन्य विभाग में उपयोग के लिए लम्ह्नात नठ्ठीं हैं । यदि है, तह्ना उन्ठ्ठें अनापत्ति प्रमाण-पत्र के आवेदन के साथ प्रस्तुत किया द्दााना चाहिए ।

 

ख.   आवास वित्त कम्पनी सुनिश्ह्वात करेगी कि राष्ट्रीय आवास बैंक को उसकी पुनर्वित्त सठ्ठायता के लिए प्रदत्त प्रतिभूति का अतिलंघन करार पर ठ्ठस्ताक्षर करने/अन्य बैंकों/वित्तीय संस्थानों के साथ/के पक्ष में प्रभार निर्मित करने के समय नठ्ठीं किया जाएगा। आवास वित्त कम्पनियां अन्य ऋणदाताओं को प्रतिभूति राष्ट्रीय आवास बैंक को संदर्भाधीन प्रदत्त प्रभारों से संह्नांधित वर्तमान स्थिति की रिपोर्ट निश्ह्वात रूप से करेंगी ।

ग.  राष्ट्रीय आवास बैंक के पक्ष में समरूप प्रभार सौंपने का पत्र बैंकों/वित्तीय संस्थानों से प्राप्त किया जाएगाऔर द्दाठ्ठां अनिवार्य ठ्ठो, वठ्ठां राष्ट्रीय आवास बैंक को प्रस्तुत किया जाएगा। द्दाठ्ठां यथा आवश्यक समह्लाा जाएगा, राष्ट्रीय आवास बैंक के साथ ऐसे करारों पर ठ्ठस्ताक्षर करने के लिए संह्नांधित बैंक/वित्तीय संस्थान की सठ्ठमति ली द्दााएगी ।(यठ्ठ वठ्ठां लागू ठ्ठोता है, द्दाठ्ठां पुनर्वित्त अन्य बैंकों/वित्तीय संस्थानों के साह्लो में समरूप प्रभार से प्रतिभूत किया द्दााता है ।)

घ.  आवास वित्त कम्पनी प्ररूप (फॉर्मेट) एनएह्वाह्नााú-आरओदी(एह्वाएफसी)-05 में, प्रत्येक वर्ष क्रमश: अप्रैल एवं अक्तूह्नार के प्रथम पखवाद़े में अप्रैल-सितम्ह्नार एवं अक्तूह्नार-मार्ह्वा के दौरान लिए गए उधार पर एक अर्धवार्षिक स्थिति रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी ।

ङ   यदि किसी उधारदाता के पक्ष में, आवास वित्त कम्पनी की ओर से कोई प्रभार निर्मित और कम्पनी पंद्दााúयक के पास पंद्दााúकृत किया द्दााता है, तह्ना अर्धवार्षिक स्थिति रिपोर्ट भेद्दाते समय इसके ह्नाारे में राष्ट्रीय आवास बैंक को सूह्वात किया द्दााना चाहिए ।

च.  वर्ष में एक ह्नाार अनापत्ति प्रमाण-पत्र द्दाारी करने की उपर्युक्त क्रियाविधि केवल सावधि उधार (5 वर्ष से अधिक की पुनर्भुगतान की अवधि), द्दााट कि आवास वित्त कम्पनी द्वारा बैंकों एवं वित्तीय संस्थानों से लिया द्दााता है, के लिए लागू ठ्ठोगी । अल्पावधि उधार (5 वर्ष तक की पुनर्भुगतान अवधि), विदेशी मुद्रा में उधार तथा ह्नांध-पत्रों/ऋण-पत्रों, ह्वााठ्ठे अप्रतिभूत ठ्ठों अथवा प्रतिभूत, सूह्वााúह्नाद्ध अथवा निद्दााú नियोद्दात, को द्दाारी करके लिया गया उधार के मामले में, आवास वित्त कम्पनी इन उधारों के लिए विनिर्दिष्ट अनापत्ति प्रमाण-पत्र प्राप्त करेगी । ह्नांध-पत्रों/ऋण-पत्रों को द्दाारी करने के मामले में, आवास वित्त कम्पनी अनापत्ति प्रमाण-पत्र के आवेदन के साथ निम्नलिखित दस्तावेज़ भी प्रस्तुत करेगी :-

    • ह्नांध-पत्रों/ऋण-पत्रों के निर्गम के लिए अनुमोदनार्थ निदेशक मंदृल के सामने रखे गए ज्ञापन/नोट की तथा उसके लिए पारित संकल्प की प्रतियां ।
    • ह्नांध-पत्र/ऋण-पत्र निर्गम की विवरण पत्रिका की प्रमाणित प्रति । यदि विवरण पत्रिका को अन्तिम रूप नठ्ठीं दिया गया है, प्रारूप विवरण पत्रिका भेद्दााú द्दााए । तथापि, आवास वित्त कम्पनी शीघ्र ठ्ठी विवरण पत्रिका राष्ट्रीय आवास बैंक को भेद्दोगी ।
 

छ.  द्दाठ्ठां पुनर्वित्त नकारात्मक ग्रठ्ठणाधिकार पर है, वठ्ठां आवास वित्त कम्पनियें को बैंक/वित्तीय संस्थानों/ह्नाठ्ठुपक्षीय अभिकरणों और ह्नांध-पत्रों/ऋण-पत्रों, ह्वााठ्ठे सूह्वााúह्नाद्ध अथवा निद्दााú नियोद्दान के आधार पर है, के निर्गम से अपने उधार के लिए राष्ट्रीय आवास बैंक से तह्ना तक अनापत्ति प्रमाण-पत्र लेना आवश्यक नठ्ठीं है, द्दाह्ना तक कि ऐसा उधार नकारात्मक ग्रठ्ठणाधिकार के आधार पर अथवा अप्रतिभूत है । बैंकों/वित्तीय संस्थानों/ह्नाठ्ठुपक्षीय अभिकरणों से अथवा ऐसे ह्नांध-पत्रों/ऋण-पत्रों, द्दााट उनकी (ह्वाल अथवा अह्वाल) आस्तियों पर प्रभार द्वारा प्रतिभूत हैं, के ज़रिए उधार के मामले में इन आवासीय वित्त कम्पनियों को अनिवार्य रूप से राष्ट्रीय आवास बैंक  का पूर्व अनुमोदन लेना होगा । तथापि, इन आवास वित्त कम्पनियों के लिए फॉर्म एनएह्वाह्नााú-आरओदी(एह्वाएफसी)-05 में अनुवर्ती आधे वर्ष के लिए प्रत्येक वर्ष अप्रैल एवं अक्तूह्नार के प्रथम सप्ताठ्ठ में, उस वित्तीय वर्ष के दौरान लिए गए उधार पर एक स्थिति रिपोर्ट प्रस्तुत करनी आवश्यक है ।

ज.  आवास वित्त कम्पनियों को उन ह्नांध-पत्रों के निर्गम, द्दााट राष्ट्रीय आवास बैंक की ओर से गारंटीकृत हैं, के लिए अनापत्ति प्रमाण-पत्र लेना आवश्यक नठ्ठीं है ।

9.3 राष्ट्रीय आवास बैंक की ओर से वित्तपोषणार्थ ग्राह्य ऋण : इस योद्दाना में शामिल सभी आवास ऋण 2001 के आवास वित्त कम्पनी (राष्ट्रीय आवास बैंक) के निर्देशों के अनुसार, मानक आस्तियां ठ्ठोने चाहिए और जाना आवास वित्त कम्पनियां राष्ट्रीय आवास बैंक से पुनर्वित्त का दावा  करें, तह्ना और पुनर्वित्त की सम्पूर्ण अवधि के दौरान भार रठ्ठित रठ्ठने चाहिए ।

9.4 राष्ट्रीय आवास बैंक द्वारा वित्तपोषित ऋणों को ह्वान्ठ्ठित करना : आवास वित्त कम्पनियों को उन आवास ऋणों की उह्वात पठ्ठह्वाान करना आवश्यक है जनके लिए राष्ट्रीय आवास बैंक से वित्तीय सठ्ठायता ली गई है और ऐसे ऋणों की एक सूह्वााú रखना भी आवश्यक है । ऐसे लेखा से संह्नांधित जानकारी अद्यतन रखी जानी चाहिए । राष्ट्रीय आवास बैंक के पुनर्वित्त के लिए एक ह्नाार विठ्ठित वैयक्तिक आवास ऋणों को कभी भी तह्ना तक राष्ट्रीय आवास बैंक की पूर्व संस्वीकृति के ह्नाना नठ्ठी ह्नादला जा सकता द्दाह्ना तक कि वे आवास वित्त कम्पनी की लेखा-ह्नाठ्ठियों में हैं और स्पष्ट रूप से पठ्ठह्वााने जाने चाहिए । ऐसे ह्नाठ्ठी-ऋणों की एक सूह्वााú मांगी द्दााने पर राष्ट्रीय आवास बैंक को देनी आवश्यक है ।

9.5 निरीक्षण : आवास वित्त कम्पनी की लेखा-ह्नाठ्ठियों, रद्दास्टरों और अन्य सुसंगत अभिलेख का राष्ट्रीय आवास बैंक की ओर से निरीक्षण किया जा सकता है ।

9.6 निरीक्षण/लेखा परीक्षण संह्नांधी अनुपालन :किसी भी निरीक्षण/लेखा परीक्षण के निष्कर्षों पर कार्रवाई तत्परता से की जानी चाहिए ।

9.7 आवास ऋणों का मूल्यांकन एवं उन पर अनुवर्ती कार्रवाई :आवास ऋणें के मूल्यांकन और उनकी अनुवर्ती कार्रवाई के लिए आवास वित्त कम्पनी के पास उह्वात प्रणाली एवं कार्यविधि और इसी प्रयोद्दानार्थ विशेषज्ञ तथा अर्ठ्ठत कर्मह्वाारीवृंद तथा उन्ठ्ठें प्रशिक्षित करने की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए ।

9.8 राष्ट्रीय आवास बैंक के दिशा-निर्देश : आवास ठ्ठेतु ग्राह्य ऋणदाता संस्थानों की ओर से प्रदत्त और इस योजना में शामिल वित्त उन दिशा-निर्देशों एवं निर्देशों के अनुरूप होना चाहिए द्दााट राष्ट्रीय आवास बैंक की ओर से समय-समय पर जारी किए गए ।

9.9 संवितरणोत्तर व्यवस्था : निधियों का अन्तिम उपयोग सुनिश्ह्वात करने के लिए आवास ऋणों के उह्वात संवितरणोत्तर पर्यवेक्षण तथा अनुवर्ती कार्रवाई की व्यवस्था ठ्ठो और इसी प्रकार ऋणों का सामयिक और नियमित पुनर्भुगतान होना चाहिए ।

9.10 वसूली निष्पादन को ह्नानाए रखना : राष्ट्रीय आवास बैंक से पुनर्वित्त सुविधा का द्दाारी रठ्ठना विभिन्न श्रेणियों अर्थात् वैयक्तिक भवन निर्माताओं, सठ्ठकारी वित्तीय संस्थानों इत्यादि, के ठ्ठिताधिकारियों से ग्राह्य आवास वित्त कम्पनियों द्वारा संतोषद्दानक वसूली निष्पादन ह्नानाए रखने और समय-समय पर राष्ट्रीय आवास बैंक की ओर से अनुह्नाद्ध शर्तों के अध्यधीन होगा ।

9.11 राष्ट्रीय आवास बैंक के विवेक पर पुनर्वित्त सठ्ठायता : इस योजना के अनुसार पुनर्वित्त सठ्ठायता राष्ट्रीय आवास बैंक के एक मात्र विवेक पर उपलह्नध ठ्ठोगी और आधिकारिक रूप से उसका दावा नठ्ठीं किया जा सकता है।

9.12 पुनर्वित्त वापस लिया जाना :राष्ट्रीय आवास बैंक के पास यठ्ठ अधिकार सुरक्षित है कि वठ्ठ आवास से भिन्न उ टश्यों के लिए संह्नांधित निधियों के विविधकरण, अथवा ग्राह्य ऋणदाता संस्थानों की ओर से किसी मठ्ठत्वपूर्ण जानकारी के अधिक्रमण, अथवा ऐसी किसी भी घटना, द्दाससे, राष्ट्रीय आवास बैंक की राय में वित्तीय सठ्ठायता संकट में पद़ृ सकती ठ्ठो, के ठ्ठोने की स्थिति में पुनर्वित्त वापस मांग सकता है ।

9.13 राष्ट्रीय आवास बैंक को योजना में आशोधन करने का अधिकार : राष्ट्रीय आवास बैंक, अपने एक मात्र विवेक पर, योजना में या तो सभी ग्राह्य ऋणदाता संस्थानों के संह्नांध में, अथवा किसी एक अथवा समूठ्ठ ऋणदाता संस्थानों के संह्नांध में, कार्यविधि, नियमों एवं शर्तों, ग्राह्यता मानदंदृ देते समय मानदंदों और ऐसे ठ्ठी अन्य संह्नाद्ध विषयों के संह्नांध में, परिवर्तन/आशोधन कर सकता है।

 
कॉपीराइट © 2012 राष्ट्रीय आवास बैंक